ट्विटर क्रांति : शिक्षामंत्री और मुख्यमंत्री पर साधा निशाना

राज्य में शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में हो रहे विलंब को देखकर TAIT परिक्षार्थियों ने अब नए अस्त्र का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया हैं. कुछ ही घंटों में इस अस्त्र का इतने भारी मात्रा में इस्तेमाल हुआ हैं. राज्य के शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री को इस हर एक ट्विट में टैग किया जा रहा हैं अगर यह इसी तरह चलता रहा तो शिक्षामंत्री को इस बात को अनदेखा करना मुश्किल हो जायेगा.

TAIT exam कि प्रक्रिया पूरी हो कर एक महीना बीत गया हैं लेकिन राज्य में शिक्षक भर्ती के बारे में सरकार द्वारा ना तो कोई अधिकृत सुचना की गई हैं और ना ही कोई ठोस कदम उठाया गया हैं.नौकरी पाने की उम्मीद लगाये बैठे ये परीक्षार्थी अपना असंतोष फेसबुक और whatsapp जैसे सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनोंसे प्रकट कर रहे थे, लेकिन इस बार उनकी यह नाराजगी ट्विटर पर दिखाई दे रही हैं.

ट्विटर पर काफी कम मात्रा में होने वाले परीक्षार्थी, अचानक से अब इतनी भारी संख्या में कैसे बढ़ गए यह  सबके सामने निर्माण हुई एक पहेली हैं. इसलिए इसे अब ट्विटर क्रांति के नाम से जाना जा रहा हैं. देखते हैं इस ट्विटर क्रांति के कुछ महत्वपूर्ण twits:

७ सालोंसे से शिक्षक होनें के उम्मीद लगाये बैठे परिक्षार्थियों को अब राह देखना उनके सहनशक्ति की सीमा देखने जैसे हो गया हैं. उपर दी गई ट्विट इन परीक्षार्थियों के स्थिति का यथार्थ वर्णन करती हैं. बहुत गहराई से यह ट्विट किया गया हैं. क्या इसपर जवाब हैं कोई शिक्षा मंत्री के पास? या फिर सिर्फ चुनाव के समय दिखानेवाले आश्वासनों में शिक्षक भर्ती भी एक हैं?

वहीं दूसरी ओर, भाजप प्रणित राज्यों में चल रही इस विद्यापन का काफी अच्छा इस्तेमाल कर के हमारे इस दोस्त ने सरकार को उनके ही शब्दों में आवाहन किया हैं, मैं लाभार्थी.. यह मेरी सरकार हैं इसे इस तरह पेश किया गया:

हर बार केवल किसी बात का आश्वासन देना और भूल जाना इस पॉलिटिक्स के सबसे पुरानी आदत को ध्यान रखते हुए काफी अलग अलग twits हुए, काफी अच्छे शब्दों का इस्तेमाल करके सरकार को उनके मतदाता ही उनकी शक्ति हैं ये बताया गया..

 

इतने भारी मात्रा में twits की बारिश हो रही हैं लेकिन कही पर भी हमें ना तो गलत शब्दोंका इस्तेमाल नजर आया और ना ही कोई अपरिपक्व ट्विट.. दोस्तों आपकी यही बात आप एक अच्छे शिक्षक हो सकते हो यह दिखाती हैं. हर साल शिक्षक भर्ती के लिए एक जवाब दिया जाता हैं.शिक्षक भर्ती पर हर साल ‘अतिरिक्त शिक्षक’ ही सबसे बड़ी  रुकावट हैं ऐसा कहने वाले शिक्षा विभाग को यह सवाल पूछा गया कि केवल शिक्षक ही क्यों अतिरक्त हैं?

गणतंत्र दिन के अवसर पर स्कूलों में राष्ट्रीय एकात्मता, राष्ट्र प्रेम जैसे मूल्य सिखाये जाते हैं, हम शिक्षक होने कि क्षमता रखने वाले परिक्षार्थियों को कब स्कूलोमे राष्ट्रीय त्यौहार मनाने का अवसर मिलेगा? यह काफी भावुक सवाल पूछा गया:

केवल DEd BEd पूरा करना ही अब शिक्षा प्रक्रिया का मुख्य अंग हो गया हैं, पिछले ७ सालोंमे शिक्षक भर्ती हुई ही नहीं तो नवीनतम ज्ञान, तकनीक से परिपूर्ण नए अध्यापकों को मौका मिलेगा आखिर कब?

हमारे दोस्त श्री अनुराग सर ने काफी बेहतरीन twits करके सरकार पर निशाना साधा हैं, उनके कुछ twits काफी लोकप्रिय भी हो गए:

परिक्षार्थियों ने ट्विटर का सही इस्तेमाल करते हुए अपने twits में अलग अलग लोगो को टैग किया हैं इसमें प्रिंट मीडिया, विपक्ष के बहुत सारी जानी-मानी हस्तियां भी शामिल हैं. इसमें दिलचस्प बात यह हैं कि इस मांग को सबसे पहले समर्थन आम आदमी पार्टी द्वारा किया गया, आम आदमी पार्टी द्वारा इससे पहले सरकारी स्कुलोंको बंद करवाने वाले फैसले को विरोध जताया गया था.

इस ट्विटर क्रांति को देखकर तो लग रहा हैं कि अब सरकार को राज्य में भर्ती प्रक्रिया बिना किसी रुकावट के शरू करनी पड़ेगी,आनेवाले चुनाव में अगर यह असंतोष ऐसेही बढ़ता गया तो विपक्ष इसका फायदा उठाने का प्रयास जरुर करेगी. राज्य में २३००० शिक्षकों के पद अगर रिक्त हैं तो केवल ३००० पदों की भर्ती करने के पीछे क्या मक़सद हो सकता हैं? CET,TET और अब TAIT ऐसे कितने चक्कर इन परिक्षार्थियों को काटने होंगे? क्या पारदर्शी पवित्र पोर्टल सिर्फ कागज पे ही रहेगा या उसपर अमल भी किया जायेगा? ऐसे बहुत सारे सवालों के जवाब देने के लिए अब सरकार को बोलना ही होगा.

दोस्तों आपने शुरुवात तो काफी अच्छी की हैं लेकिन अब जरुरत हैं इस प्रयास को कायम रखने की, अगर आप अपनी मांग के लिए ऐसे ही सतर्क रहेंगे तो जरुर आपका कहना उनतक पहुँच जायेगा और केवल पहुँच ही नहीं जायेगा तो उनके लिए ये जरुरी हो जायेगा कि आपके इस मांग पर अमल कर,विचार तो ७ सालोंसे वो लोग कर ही रहे हैं.

ट्विटर पर हम भी आपके साथ इस क्रांति में शामिल हैं,आप हमारे twits यहाँ क्लीक करके देख सकते हैं  क्लिक करे  हमारा ट्विटर हैंडल sbfied_official नाम से हैं.

आपकी एकता ही आपकी असली शक्ति हैं, आपसे निवेदन हैं कि आप आपकी यह एकता बिना किसी रुकावट के बनाई रखे.

(यह आर्टिकल हमारे रीडर्स लेटर्स इस उपक्रम के अनुसार पोस्ट की गयी हैं, दोस्तों अगर आप भी हमारे लिए लिखना चाहते हो तो हमें [email protected] पर मेल कीजिये. धन्यवाद.

7 thoughts on “ट्विटर क्रांति : शिक्षामंत्री और मुख्यमंत्री पर साधा निशाना”

  1. मराठा समाजातील मुलींं,मुलांचे सेवा शर्ती चे वय निघून जात आहे तरी लवकरात लवकर नौकरी भर्ती करावी.

  2. संभाजी जाधव

    प्राथमिक ते पदव्युत्तर पर्यं त ची शिक्षकभरती बदली ही mpsc च्या धरतीवर यावी ही मा.तावडे साहेबांना कळकळीचे आवाहन आहे.तावडेसाहेबांनी शिक्षण संस्थाचालकाच्या तावडीतून सोडवावे.
    हे तुम्हीच करु शकता पण काय झाले निर्णय होत नाही???
    क्रांतीदूत होण्याची संधी सोडू नका…

  3. ात वर्षापासून आम्ही भरतीची वाट पाहत आहोत Ded 2011 ला झालं tet pass झालोत TAIT एक्साम चांगल्या मार्कांचीpass झालोत आता तरी शिक्षक होण्याची संधि देऊन आम्हा ded ,bed झालेल्या उमेदवार यांना न्याय द्यावा हि विनंती

  4. सात वर्षापासून आम्ही भरतीची वाट पाहत आहोत Ded 2011 ला झालं tet pass झालोत TAIT एक्साम चांगल्या मार्कांची pass झालोत आता तरी शिक्षक होण्याची संधि देऊन आम्हा ded ,bed झालेल्या उमेदवार यांना न्याय द्यावा हि विनंती

  5. Mandlik Ujjwala

    A humble request to our gov. to help the future teachers as nation builders to be stable anyhow in this condition and give fullstops to their struggles which have been going on from 8 years. finally please take action and give recruitments

Leave a Comment

Your email address will not be published.